Software और Program मे अंतर || Difference between software and program

Software और Program मे अंतर || Difference between software and program in hindi-


Software-

सॉफ्टवेयर कंप्यूटर को instruction देने के लिए प्रोग्राम (program) , डाटा (data) , instruction और proceedure का collection होता है , और इसे किसी perticuler काम के लिए डिज़ाइन किया जाता है।

Program-

प्रोग्राम instruction का set होता है जो किसी spacific task को perform करने के लिए लिखा जाता है। प्रोग्राम किसी प्रोग्रामर के माध्यम से प्रोग्रामिंग लैंग्वेज जैसे dot net, java, c, c++ में लिखा जाता है |  कंप्यूटर प्रोग्राम फाइल के रूप में कंप्यूटर में hard drive में store होता है |

इस topic की Video देखने के लिए नीचे image पर Click करे-



Difference between software & Preogram-

1) सॉफ्टवेयर mainly ऑपरेटिंग सिस्टम  पर depend होता है जबकि प्रोग्राम कंपाइलर पर depend होता है |

2) सॉफ्टवेयर को दो category में विभाजित किया गया है। सिस्टम सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर जबकि प्रोग्राम की कोई category नही होती है |

3) प्रोग्राम सॉफ्टवेयर नहीं हो सकता है परंतु एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम हो सकता है|

4) प्रोग्राम के पास कोई यूजर इंटरफेस (user interface) नहीं होता है जबकि सॉफ्टवेयर के पास यूजर इंटरफेस (user interface) होता है|

Computer से related और topic की video देखने के लिए click करे-



5) सॉफ्टवेयर का साइज generally एमबी (mb) से जीबी (gb) के बीच होता है जबकि प्रोग्राम का साइज केबी(kb)से एमबी(mb) के बीच होता है|

6) सॉफ्टवेयर को develop करने के लिए  ट्डexpert, experience और trained person की need होती है , जबकि प्रोग्राम को beginner भी develop कर सकते हैं |

7) अगर कंप्यूटर पर सॉफ्टवेयर ना हो तो कंप्यूटर किसी काम का नहीं होता। बिना सोफ्टवेयर के कंप्यूटर use नहीं किया जा सकता है क्योंकि ऑपरेटिंग सिस्टम भी एक सॉफ्टवेयर है,  और बिना ऑपरेटिंग सिस्टम के PC open नहीं होगा जबकि प्रोग्राम के बिना कंप्यूटर को open किया जा सकता है और सारे के सारे operations को perform कर सकता है।  
8) बिना प्रोग्राम के सॉफ्टवेयर को इंटरनेट से डाउनलोड (download) करके use किया जा सकता है, जबकि प्रोग्राम को बिना सॉफ्टवेयर के run नहीं कराया जा सकता है। जैसे C की कोडिंग को बिना C के सॉफ्टवेयर के execute नहीं किया जा सकता है |

9) सॉफ्टवेयर प्रोग्राम के कंपैरिजन में ज्यादा समय लेता है |


Post a Comment

2 Comments

  1. Great article very knowledgeful information if you want to know more about click here - software क्या है? Types of software

    ReplyDelete
  2. hey bro you rank this article on google i know that it is so hard but your experience is win how many years you experience of blogging. this is blogger site but now it can change.

    ReplyDelete