क्रिकेट - A Funny Hindi Poem

क्रिकेट क्रिकेट जब चढ़ा बुखार
मन में आया एक विचार
क्यों ना मैं एक टीम बनाऊ
पहला ही कप जीत के लाऊ
मैं ही कप्तान बनूँगा
बैटिंग पहले मैं ही लूंगा
मेरे हाँथ में बैट जो आया
अपने मित्र को मजा चखाया |
आखरी गेंद जो मित्र ने फेंकी
क्रिकेट - A Funny Hindi Poem
क्रिकेट - A Funny Hindi Poem
मैंने कोशिश की छक्के की
क्रीज छोड़कर मैंने मारा
दर गया मेरा मित्र बेचारा |
गेंद लगी खिड़की से जाकर
शीशा चूर हुआ टकराकर
लेकर डंडा मम्मी आई
सबसे छुपकर जान बचाई |
पड़ गए डंडे मुझ पर चार
उतर गया क्रिकेट का बुखार 

Post a comment

0 Comments