हाय! ये पढाई - A Hindi Poem

हाय! ये पढाई, मुझे न भाई,
मन करता है कर लू उससे लड़ाई |
हाय ये पढाई,हाय ये पढाई!

पिता ने बैठकर रात को पढ़ाया,
 सुबह पता चला हो गया सब सफाया!
 दिल करता है ये टेस्ट न आये,
 और हम अपने सपनो में खो जाये |

हाय! ये पढाई - A Hindi Poem
हाय! ये पढाई - A Hindi Poem














दोपहर में आकर पढाई हम करते है,
 दिल करता है कहीं घूम कर आये,
 गणित हिंदी इंग्लिश की ये रिवीजन|
 हाय रे कर दे जीना हराम!

हाय! ये पढाई, मुझे न भाई,
मन करता है कर लू उससे लड़ाई |
कुछ समय बाद जब सब हुए अपने कार्यो में व्यस्त
तब समझ आया पढाई का महत्व ,
भूल को सुधारा,  पढाई को सवारा
परिश्रमी बन अपने व्यक्तित्व को निखारा
|Exam

Post a comment

0 Comments