स्टूडेंट का आत्मविश्वास (self confidence) कैसे बढ़ाए

स्टूडेंट का सेल्फ कॉन्फिडेंस कैसे बढ़ाए

स्टूडेंट का सेल्फ कॉन्फिडेंस कैसे बढ़ाए

स्टूडेंट का सेल्फ कॉन्फिडेंस कैसे बढ़ाए


वैयक्तिक रूप से आत्मविश्वास सब के लिए महत्वपूर्ण होता है  । ऐसा मानवीय स्वभाव की भिन्नता के कारण ही होता है, कि बहुत सारे छात्र अपने आप पर भरोसा नहीं करते । ऐसा ना समझे कि आप पूरी दुनिया के मसले को हल कर देंगे  ।आपके खुद के बच्चे या फिर आप के छात्र ऐसे होंगे जो खुद पर भरोसा नहीं करते । कई बार आप केवल शिक्षण पर अध्याय केंद्रित करने की बात सोचेंगे, और ऐसी समस्याओं को टालने की कोशिश करेंगे । लेकिन यहां कुछ सूत्र बताए जा रहे हैं जिन्हें आजमाकर आप कमजोर आत्मविश्वास वाले छात्रों की सहायता कर सकते हैं ।

सफलता के अवसरों में प्राप्ति कैसे करें 

खुद को याद दिलाने की कोशिश करें, कि किस तरह सफलता मिलने पर आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होती है । जिन छात्रों का विश्वास कमजोर है उन्हें ऐसे काम करने के लिए प्रेरित करें जिससे उन्हें सफल होने की अनुभूति मिल सके । उन्हें शुरू में छोटे-छोटे काम दे । उसके बाद उन्हें आसानी से पूरा करने की ताकत आ जाएगी, और वह खुद से लंबे लंबे सवालों को हल करने की कोशिश करेंगे ।

राय देते समय भावनाओं का ध्यान रखें 

आत्मविश्वास की समस्या का सामना कर रहे छात्रों को राय देते समय ध्यान रखें कि जरा सी बात भी उनकी भावनाओं को ठेस पहुंचा सकती है । उनके सामने संतोषजनक बाते करे । गलत और नकारात्मक शब्दों का प्रयोग करने से बचना चाहिए ।

छात्रों को उनकी आंतरिक क्षमता का एहसास करवाएं 

जो छात्र कमजोर आत्म विश्वास रखते हैं उन्हें उनके व्यक्तित्व के सकारात्मक पहलू की याद दिलाएं । उनकी पहली उपलब्धियों की याद दिला कर आप उन्हें भविष्य में भी सफल होने के लिए आश्वासन दे सकते हैं ।

छात्रों को अपनी कमजोरियों को स्वीकार करने की सहायता करें 

छात्रों को यह बताएं कि व्यक्ति अपने अंदर की कमजोरियों को भी अपनी शक्ति के रूप में इस्तेमाल कर सकता है और उन्हें और अपनी कमजोरी को अपनी शक्ति बना सकता है उन्हें विश्वास दिलाया कि भले ही अभी तक वह नाकाम रहे हैं मगर भविष्य में उन्हें सही कोशिश करने पर कामयाबी मिल सकती है

छात्र को बताएं कि कमजोरी असल में प्रगति के अवसर को साबित कर सकती है 


छात्रों को यह कहे कि उनकी कमजोरी पर शर्मिंदा होने की जरूरत नहीं है बल्कि उन्हें चुनौती मान कर प्रकृति पर संकल्प लेना महत्वपूर्ण होता है और आगे बढ़ते रहना चाहिए । छात्रों को बताएं कि जीवन में कभी-कभी आत्मविश्वास का कमजोर होना स्वाभाविक होता है । छात्रों को यह बताना जरूरी होता है कि ज्यादातर सफल व्यक्तियों को भी जीवन में कभी ना कभी कमजोर आत्मविश्वास का सामना करना पड़ता है जीवन में प्रगति करने के लिए इस तरह की नाकामी का अनुभव करना बहुत जरूरी होता है । ऐसे मौकों पर छात्रों को अपने जीवन के अनुभव के बारे में भी बताएं ।

छात्रों के मन में विश्वास बढ़ाने की कोशिश करें 

छात्रों के समूह को अभ्यास के लिए आमंत्रित करते हुए हर एक छात्र से पूछे कि किन बातों के चलते उन्हें खुद पर गर्व महसूस होता है छात्रों को ऐसी सकारात्मक बातों का पता चलेगा जिससे उनका आत्मविश्वास मजबूत हो जाएगा।

छात्र को अपनी अनुभूतियां बांटने के लिए प्रेरित करें 

छात्रों को अपनी अनुभूतियों की चर्चा करने के लिए प्रोत्साहित करें ऐसा करते समय उनके मन की जो कुंठा होती है । वह बाहर निकल जाएंगी और उनके भीतर साकारात्मक अनुभूति का संचार होगा ।

Post a comment

0 Comments