मोबाइल बैंकिंग और नेट बैंकिंग में अंतर || Difference Between Mobile Banking And Net Banking


भारत में जबसे डिजिटल इंडिया आया है तब से हर चीज़ नेट पर मिल जाती है खाना ऑनलाइन मगवा सकते है कपडे खरीद सकते है बिजली का बिल जमा कर सकते है यहाँ तक की बस ट्रैन आदि की टिकट भी बुक कर सकते है | परन्तु ये सब करने के लिए पैसे की आवश्यकता आती है | जो की ऑनलाइन कर सकते है | अब ऑनलाइन ट्रांसक्शन के कई तरीके आ गए है जैसे कि फ़ोन पे , पेटीएम इत्यादि |

       आपको पता है बैंक भी ये सब सुविधाएं देने लगी है | नेट बैंकिंग या फिर मोबाइल बैंकिंग के माध्यम से भी ट्रांसेक्शन किया जा सकता है | ट्रांसेक्शन के साथ ही खाते में पैसे और लेन देन की जानकारी भी मिलती है |नेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग के माध्यम से खाताधारक अपनी निजी जानकारी भी ले सकता है |सुनने में नेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग कुछ एक जैसे ही शब्द लगते है परन्तु इनमे कुछ डार्क होता है जिसके कारण ये एक दूसरे से अलग होते है | आइये इसी अंतर के बारे में जानते है | 



1) नेट बैंकिंग को इंटरनेट बैंकिंग या ऑनलाइन बैंकिंग के नाम से भी जाना जाता है इसके लिए वेबसाइट बनाई गयी है | जबकि मोबाइल बैंकिंग के लिए एप बनाई जाती है |

2) नेट बैंकिंग के लिए बैंक अपनी वेबसाइट बनवाता है जिसे रजिस्टर करने के बाद लॉगिन करके इसकी सुविधा का लाभ प्राप्त किया जा सकता है जबकि मोबाइल बैंकिंग में आपको एक एप को इनस्टॉल करना होता होता है और उसका फायदा उठा सकते है |

3) नेट बैंकिंग में आप किसी ब्राउज़र का इस्तमाल करते है जैसे - गूगल क्रोम , फायर फॉक्स जबकि मोबाइल बैंकिंग में एप का इस्तमाल होता है |

4) मोबाइल बैंकिंग के द्वारा हम बिजली का बिल , मोबाइल रिचार्ज , पानी का बिल जैसी अनेक सुविधाओं का लाभ उठा सकते है जबकि नेट बैंकिंग में ये सब सुविधाएं उपलब्ध नहीं है | 

5) नेट बैंकिंग बहुत ही विस्तार से होती है , जबकि मोबाइल बैंकिंग में संक्षिप्त में होता है | इसमें वही डाटा होता है जिसकी आवश्यकता होती है |

6) मोबाइल ऐप ग्राहक को सीधे बैंक से कनेक्ट कर देता है. ऐप से बार- बार बैंक का साइट एड्रेस डालने के झंझट से मुक्ति मिल जाती है | 


Post a Comment

1 Comments

  1. Thanks mam lekin bura na mano to aap se kaise jud sakte hi jaruri Kam hi

    ReplyDelete