महापाषाण संस्कृति का उदय कब हुआ

महापाषाण संस्कृति का उदय कब हुआ 


महापाषाण संस्कृति का उदय कब हुआ


महापाषाण संस्कृति का उदय दक्षिण में पाषाण युग के बाद होता है। यूँ तो यह संस्कृति कुछ हद तक भारत के पूर्वी-मध्य और उत्तर-पश्चिम क्षेत्रों में भी पाई जाती है, किंतु दक्षिणी भारत के संदर्भ में इस संस्कृति का विशेष महत्व है। 


महापाषाणीय संस्कृति की दो प्रमुख विशेषताएँ हैं-


एक तो यह लौह युग से अविरल रूप से जुड़ा हुआ है और दूसरा यह काले एवं लाल मृद्भांडों के आविर्भाव से भी संयुक्त है। इस युग की पुरातत्व संबंधी वस्तुएँ आवास स्थल और कब्रगाह दोनों जगहों से प्राप्त होती हैं। कब्रगाह पुरातत्व सामग्री की प्रचुरता के कारण ज्यादा अधिक महत्त्वपूर्ण है। कब्रों में वस्तुओं के रखने का उद्देश्य यही था कि व्यक्ति को मरणोपरांत भी आवश्यक वस्तुएँ यथेष्ट रूप से प्राप्त हों तथा वे प्रकृति  की विनाशलीला से भी बची रहें। कब्रगाह में रखी सामग्री से यह स्पष्ट होता है कि मृत्यु के बाद भी आत्मा के विनुष्ट न होने पर लोगों का विश्वास था। लोहे और काली तथा लाल मिट्टी के बर्तनों का महापाषाण काल से विशेष संबंध था। 


हालाँकि इसका इस्तेमाल उस संस्कृति के पहले तथा बाद में भी होता रहा था। महापाषाण संस्कृति का विकास विश्व के अन्य देशों में भी हुआ था। महापाषाणकालीन लोग साधारणतया पहाड़ की ढलानों पर रहते थे, परंतु ऐसा प्रतीत हॉता है कि इस काल में लोग कृषि का विशेष विकास नहीं कर पाए थे।


यह भी पढ़े 


  • हड़प्पा संस्कृति का धर्म क्या था | What Was the Religion of Harappan Culture
  • दीवाली निबंध || Dewali essay in hindi
  • पितृसत्तात्पक प्रभुत्व वाले वैदिक समाज में स्त्रियों की स्थिति क्या थी

Post a comment

0 Comments