Franking Charge क्या होते है प्रोपर्टी लेते समय इसे कैसे लगाया जाता है

What is franking charge, franking charge
Franking Charge क्या होते है


आपने प्रॉपर्टी परचेस करते समय अक्सर सुना होगा फ्रैंकिंग चार्जेज के बारे में आप में आपको बताउंगी फ्रैंकिंग चार्जेज के बारे में ये क्या होते है । किसी भी तरह की प्रॉपर्टी परचेस करते वक्त कई तरह के चार्जेस जुड़े होते है जो की आपको चुकाने होते है । वो पेमेंट छोटे या बड़े किसी भी तरह के हो सकते है । उदाहण के लिए जब हम किसी बैंक से होम लोन लेते है तो हम बैंक को प्रोसेसिंग फीस देते है इसके लिए बैंक कैर्री आउट करते है टेक्निकल अप्रैज़ल कॉस्ट को भी जो की आप को ही चुकाने होते है । 
     इसके अलावा प्रॉपर्टी को लीगल फॉर्म देने के लिए उसकी स्टाम्प ड्यूटी भी भरनी होती है । जो कितनी हो सकती है ये इस बात पर निर्भर करता है की आपकी प्रॉपर्टी कहा पर यानि की किस स्टेट में स्थित है । वैसे तो ये 4 से 10 परसेंट तक होता है । इसके अलावा आपको प्रॉपर्टी का रजिस्ट्रेशन भी करना होता है इस पर आपको एक परसेंट ड्यूटी भरनी होती है । अब तक आप ये सोच रहे होंगे की प्रॉपर्टी का रजिस्ट्रेशन करना और स्टाम्प ड्यूटी भरना ही फ़्रैंकिग चार्ज होती है । अगर आप ऐसा सोच रहे है तो आप गलत सोच रहे है । तो क्या अंतर है इन दोनों मे 

रजिस्ट्रेशन करना और स्टाम्प ड्यूटी


       स्टाम्प ड्यूटी एक तरह का टैक्स होता है जो आप उस स्टेट को देते हो जहा अपने वो प्रॉपर्टी परचेस की है ये हर स्टेट में अलग अलग होती है क्योकि ये टैक्स राज्य सर्कार को दिया जाता है । लेकिन अगर हम फ्रैंकिंग चार्जेज की बात करे तो प्रॉपर्टी डाक्यूमेंट्स को स्टाम्प करने के प्रोसेस को कहा जाता है । इसके लिए कोई ऑथोराइस बैंक फ्रैंकिंग का इस्तेमाल करके पेपर को स्टाम्प करता है और ये अप्रैस करता है की स्टाम्प ड्यूटी को भर दिया गया है । बैंक या एजेंट फ्रैंकिंग मशीन का इस्तेमाल करते है । 

इसके अलावा कुछ जरुरी बाते है जो आपको ध्यान रखनी चाहिये । 


      जो अथॉरिटी आपके पेपर को फ्रैंकिंग करते है वो आपसे इस सर्विस के लिए पैसे की डिमांड भी कर सकते है । लेकिन कुछ बैंक ये काम फ्री में भी करते है । जबकि जो बैंक चार्ज करते है वो 0.1 परसेंट हो सकती है । उदहारण के लिए अगर आप 50 लाख की प्रॉपर्टी खरीद रहे है तो आपको उसको 0.1 परसेंट यानि की 5000 रुपये देना पड सकता है ।

           इस तरह से अपने जिस भी स्टेट में प्रॉपर्टी ख़रीदा है वह पर स्टाम्प ड्यूटी 5.2 है तो आपको स्टाम्प ड्यूटी 5.1 देनी होगी और फ्रैंकिंग चार्ज 0.1 परसेंट देना होगा । इसके अलाव सभी बैंक और एजेंट्स को फ़्रैंकिग करने की अनुमति नहीं होती । लेकिन अगर किसी को फ्रैंकिंग की अनुमति होती है तो भी उनके पास लिमिटेड कोट्स होते है और इस सर्विस को देने के लिए लिमिटेड समय होता है क्योकि बैंक को फ्रैंकिंग के पहले इसकी पूरी तैयारी करनी होती है । 

       इसके अलावा सबसे जरुरी बात ये की आपको डाक्यूमेंट्स को फ्रैंकिंग करने की जरुरत नहीं होती आप इ स्टाम्प का भी इस्तेमाल कर सकते है इसके लिए आप ऑथोरिसे बैंक से उतनी ही वैल्यू के इ स्टाम्प खरीद सकते है जो की पहले से ही स्टंपड होते है ।

Read this also:-
किन किन खर्चो पर आपको टैक्स मे छूट मिलती है पूरी जानकारी

Post a comment

0 Comments