जानिये बीमार लोगो को भारतीय रेलवे के किराये मे कितनी छूट और सुविधाये मिलती है

नमस्कार दोस्तों आज के इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगी रेलवे के कुछ ऐसे नियमों के बारे में जिन नियमों के तहत आप रेलवे में फ्री में यात्रा कर सकते हैं । अगर आप बीमार है तो रेलवे में फ्री में यात्रा कर सकते हैं । लेकिन उसके लिए कुछ नियम और कायदे बनाए गए हैं । आज की इस पोस्ट में मैं आपको उन्ही के बारे में बताऊंगी।

जानिये बीमार लोगो को भारतीय रेलवे के किराये मे कितनी छूट और सुविधाये मिलती है, indian railway rules for patients
जानिये बीमार लोगो को भारतीय रेलवे के किराये मे कितनी छूट और सुविधाये मिलती है

भारतीय रेलवे ने लोगों के कल्याण को ध्यान में रखते हुए कई तरह की रेल योजनाएं चला रही है । इनमें से एक योजना है जिसमें की गंभीर बीमारी से जो पीड़ित लोग होते हैं वह रेलवे के अंदर फ्री में यात्रा कर सकते हैं । रेलवे का यह भी एक नियम है लेकिन बहुत से लोगों को इस जानकारी के बारे में पता नहीं है । इसलिए वह इस नियम का फायदा नहीं उठा पाते हैं । तो चलिए मैं आपको बताती हूं कि अगर आप किन किन बीमारियों से पीड़ित होंगे तो आपको और आपके साथ यात्रा करने वाले एक सहयोगी को किराए में कितनी छूट मिलेगी और कितनी रियायत मिलेगी ।

कैंसर

अगर बात करें कैंसर के मरीज की तो कैंसर के मरीज को रेल के किराए में पूरी छूट मिलती है । वहीं दूसरी बीमारियों के लिए नियम अलग-अलग बनाए गए हैं । ऐसे में बीमार लोग का रेलवे में फ्री यात्रा करने का नियम जानना बहुत जरूरी होता है । रेलवे में अगर कोई बीमार व्यक्ति यात्रा करता है तो उसकी देखरेख करने के लिए एक सहायक या हेल्पर की आवश्यकता होती है । और ऐसे में उस सहायक को भी रेलवे में फ्री में यात्रा करने की सुविधा दी जाती है । किस बीमारी के लिए कितने किराए में छूट मिलेगी यह रेलवे द्वारा नियम पहले से ही बनाए गए हैं । इसलिए रेलवे में यात्रा करने से पहले आपको इन नियमों की पूरी तरह से जानकारी होनी आवश्यक है । अगर आप कैंसर के पीड़ित है तो आपको इलाज से रिलेटेड जो भी चेकअप होता है और एक शहर से दूसरे शहर में आने जाने का जो भी रेल का किराया होता है । वह 50 से लेकर 100 फ़ीसदी तक कि उसमें आपको छूट मिलती है  । कैंसर का मरीज अगर ट्रेन में एसी फर्स्ट क्लास में और एसी चेयर में सफर करता है तो उसे 75 फ़ीसदी की छूट मिलती है स्लीपर और 3 एसी में सफर करने पर उसे 100 फ़ीसदी की छूट मिलती है । इसके अलावा एसी फर्स्ट और एसी सेकंड में सफर करने पर उसे 50% की छूट मिलती है । इसके साथ ही उस मरीज के साथ एक व्यक्ति को देखभाल करने के लिए जरूरत होती है । तो उसे भी रेल के किराए में छूट मिलती है स्लीपर और तीन एसी के में हेल्पर को 75 फ़ीसदी की छूट दी जाती है । इसके अलावा और किसी भी क्लास में सफर करने पर मरीज के साथ सहायक को भी उतनी ही छूट मिलती है ।

हीमोफीलिया पेशेंट 

अगर हम बात करें हीमोफीलिया के मरीज की तो ऐसे मरीजों को भी ट्रेन के टिकट में किराए में छूट मिलती है । अगर वह सेकंड स्लीपर और फर्स्ट क्लास या फिर एसी 3 और एसी चेयर क्लास में सफर करते हैं । तो उन्हें 75 फ़ीसदी की छूट मिलती है । और उनके साथ अगर सहायक भी उनके साथ सफर करता है तो टिकट में उन्हें भी छूट मिलती है ।
जानिये बीमार लोगो को भारतीय रेलवे के किराये मे कितनी छूट और सुविधाये मिलती है

एड्स के मरीज 

एडस के मरीज को अपने इलाज के लिए ट्रेन में आने जाने में 50 फ़ीसदी की छूट दी जाती है । सेकंड क्लास में सफर करने के लिए यह छूट मिलती है ।

एनीमिया के मरीज 

इस बीमारी के मरीजो जिन्हें एनीमिया से रिलेटेड बीमारियां होती हैं उन मरीजों को अपने ट्रीटमेंट और चेकअप के लिए इधर उधर आने जाने पर ट्रेन से जो किराया लगता है । उसमें 50 फ़ीसदी की छूट दी जाती है । फस्ट क्लास एसी चेयर क्लास एसी टू टायर पर लगाई जाती है ।

अस्थमा के मरीज 

जो अस्थमा के मरीज होते हैं उन्हें किसी भी समय ट्रेन में सफर करना पड़े तो हमेशा उन्हें 50 फीसदी की छूट दी जाती है । और उनके साथ अगर कोई सहायक भी ट्रेन में यात्रा करता है तो उसे भी डिस्काउंट दिया जाता है ।

जानते हैं टीवी के मरीजों के बारे में 

टीवी या फिर कुष्ठ रोग से जो मरीज ग्रसित होते हैं । उन्हें सेकंड क्लास स्लीपर और फर्स्ट क्लास में अकेले या फिर किसी हेल्पर के साथ सफर करने पर 75 फ़ीसदी ट्रेन के किराए में छूट मिलती है ।

थैलीसीमिया दिल और किडनी के मरीज 

थैलीसीमिया एक ऐसी बीमारी होती है जिसमें मरीज को बार बार खून चढ़ाना पड़ता है । इसके लिए मरीज को उसके साथ एक सहायक का होना बहुत जरूरी होता है । और बार-बार उसे ट्रेन में आने जाने का लिए सफर करना होता है । दिल के पीड़ित मरीज को भी हार्ट सर्जरी के लिए यहां वहां आना जाना पड़ता है । और किडनी से पीड़ित और किडनी ट्रांसप्लांट करने वाले को भी अपने ऑपरेशन के डायलिसिस के लिए अकेले या फिर किसी सहायक की जरूरत होती है  ।इन मरीजों को सेकंड क्लास स्लीपर फर्स्ट क्लास एसी एसी चेयर क्लास में सफर करने पर 75 फ़ीसदी की किराए में छूट मिलती है और अगर वह एसी फर्स्ट क्लास या सेकंड क्लास में सफर करते हैं तो उन्हें 50 फ़ीसदी किराए में छूट मिलती है ।

दोस्तों कैसी लगी आपको यह जानकारी हमें कमेंट करके जरूर बताइएगा और अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी है तो आप इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करिए धन्यवाद ।


Post a comment

0 Comments