संतुलित बचत और निवेश (saving and investment) Idea




संतुलित बचत और निवेश (saving and investment) 

 आजकल के व्यस्त जीवन शैली में युवाओ के पास इतना वक्त नहीं होता कि वो इस बात पर विचार भी करें | वैसे वक़्त तो हमें निकलना ही होता है किसी भी महत्वपूर्ण कार्य के लिए | आज मैं आपके समक्ष लेकर आई हू बचत और निवेश से सम्बन्धित कुछ ऐसी बातें जो आपके निजी जीवन के लिए बहुत ही उपयोगी है | इन पर अमल करें वो युवा वर्ग जिन्हो ने नौकरी करना शुरू किया है क्युकी शुरुआती दिनों पर आप पर कोई आर्थिक जिम्मेदारी होती नहीं है इसलिए आप अपने पैसे का आसानी से निवेश कर सकते है, आप अपने पैसे को कहा कैसे बचत या निवेश करें जिससे आपको अधिक से अधिक फायदा हो | जिन युवाओ पर जिम्मेदारी नहीं है वो कम से कम अपनी आय का 65 से 75 % हिस्सा बचत में जरूर लगाये |

संतुलित बचत और निवेश (saving and investment) Idea


उनके ये बचत भविष्य में स्वयं के व्यवसाय या नया निवास बनाने में या खरीदने में उनके काम आती है विवाह के पश्चात ये आसान नहीं होता की आप ज्यादा बचत कर सके | अब बात आती है उन युवा वर्ग की जो 25 से 30 के आस पास है |जब स्वयं का परिवार हो तो जिम्मे दारी बढ़ जाती है क्रम में निवेश और बचत महत्वपूर्ण हो जाती है| निवेश या बचत को हम 3 मुख्य भागों में बात सकते है -
 1) पहला भाग -जीवन व स्वास्थ सुरक्षा सम्बन्धी निवेश
 2) दूसरा भाग - इमरजेंसी फंड (बचत)
 3) तीसरा भाग - शुध्द निवेश

 पहला भाग -जीवन व स्वास्थ सुरक्षा सम्बन्धी निवेश- 

वस्तुतः यह निवेश न होकर अपने परिवार की सुरक्षा हेतु ही होती है | इंश्योरेंस और निवेश में अंतर होता है इस बात को समझने का प्रयास करे | जीवन बीमा और हेल्थ प्लान निवेश के लिए नहीं होते है इस बात को समझने का प्रयास करे | ऑनलाइन का टर्म प्लान जो आपकी सालाना आय का लगभग 40 गुना तक का ले सकते है और इसका प्रीमियम भी कम  होता है |आज के समय आप इंटरनेट के माध्यम से Paisa bajar. Com से विभिन्न कंपनियों का प्लान की तुलना करके चुन सकते है |कृपया ये बिलकुल न सोचे की हर वर्ष प्रीमियम देना पड़ेगा और अंत में कुछ मिलेगा भी नहीं | अगर कल्पना की जय की किसी व्यक्ति के साथ कोई अक्समत दुर्घटना हो जाये तो बीमा की रकम उसके परिवार की सहायता कर सकता है | ऑनलाइन टर्म प्लान के अतिरिक्त आप बीमा भी ले सकते है जिसमे रिटर्न भी मिलता है |

 परन्तु उसका प्रीमियम भी ज्यादा होता है | उदाहरण के तौर पर अगर आप टर्म प्लान और रिटर्न टर्न प्लान की तुलना करते है तो जहाँ एक तरफ हमें 1 करोड़ के बीमा के लिए 10 हजार रू प्रति वर्ष देना होता है जबकि रिटर्न पॉलिसी में 10 हजार का प्रीमियम देने में 15 लाख तक का ही बीमा होता है |तथा अकस्मात दुर्घटना की स्थिति में टर्म प्लान परिवार को एक मजबूत सहारा दे सकता है |जबकि आज कल की कंपनियां तो 100 साल का प्लान भी दे रही है | सभी टर्म प्लान की कम्पनियां IRDA से सम्बंधित है तो आप कंपनियों की तुलना जरूर कर ले | हेल्थ प्लान (स्वास्थ बीमा) भी आज की तारिख में जरुरी है एक साधारण परिवार को कम से कम ये बीमा 5 लाख तक का अवश्य होना चाहिए | इसका प्रीमियम 10 हजार प्रति वर्ष का होता है | ये अकस्मात दुर्घटना या बीमारी के समय काम आता है | इस उदाहरण से आप समझ सकते है जैसे अगर 5 साल तक इस बीमा की जरूरत नहीं पड़ती है और 50 हजार बेकार गए परन्तु उसी बीच आपको या आपके परिवार के साथ कोई दुखत घटना हो जाये तो 4 या 5 लाख की जरूरत पड़ने पर ये काम आता है | महत्वपूर्ण बात ये है की टर्म प्लान पॉलिसी और स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी को लेते समय तुलना जरूर करें और पूरी शर्ते समझने के बाद अंतिम निर्णय ले |
संतुलित बचत और निवेश (saving and investment) Idea
संतुलित बचत और निवेश (saving and investment) Idea

अतः पहले भाग से यह निष्कर्ष निकलता है कि टर्म प्लान 50 लाख से लेकर 1 करोड़ तक का अवश्य होना चाहिए और एक स्वास्थ प्लान 5 लाख या 5 लाख से अधिक का होना चाहिए |

दूसरा भाग - एमरजेंसी फण्ड (बचत) 

आपकी आय का लगभग तीन गुना या उससे अधिक आपके पास कैश होना चाहिए जो एमरजेंसी में काम आ सके | इस बात का ध्यान अवश्य रक्खे की फिक्स डिपाजिट को ब्रेक करके आपका पैसा तुरंत नहीं मिलता है | 
संतुलित बचत और निवेश (saving and investment) Idea
संतुलित बचत और निवेश (saving and investment) Idea

हर बैंक का अलग नियम और समय सीमा होती है | तो इस बात का ध्यान रखते हुए आप इमरजेंसी फण्ड रक्खे | 

 तीसरा भाग-शुद्ध  निवेश- 

टर्म जीवन बीमा स्वास्थ्य बीमा और इमरजेंसी फंड के बाद आप अपनी आय को व्यवस्थित तरीके से निवेश (investment) करे | निवेश करने वाली कंपनियों को जीवन बीमा पॉलिसी को अलग रखे अर्थात निवेश करते समय रिटर्न और रिस्क को ध्यान रखें | निवेश के सम्बन्ध में यह बात महत्वपूर्ण है की आप कितना रिस्क ले सकते है | संतुलित निवेश की बात की जाये तो इसे तीन भाग में विभाजित करके किया जाये तो सही रहेगा |
संतुलित बचत और निवेश (saving and investment) Idea
संतुलित बचत और निवेश (saving and investment) Idea


1) रिटर्न की दृष्टि से ज्यादातर लोग equity (इक्विटी) में निवेश करते है जो बाजार की स्थति पर निर्भर करता है | अगर आप थोड़ा थोड़ा पैसा ही लगा सकते है जिसके लिए आप म्यूचल फंड (mutual fund) या SIP के नाम से निवेश कर सकते है | निवेश अगर आपको लम्बे समय के लिए करना है तो इसमें आपको पॉलिसी से ज्यादा मिलता है | बीते हुए वर्षो में ऐसी भी स्थति आई है की बाजार अपने निचले स्तर पर पहुंचा है जिससे लोगों के वर्षो की बचत डूब गयी | अतः सिर्फ इक्विटी में पूरी बचत लगाना सही नहीं है | 30 से 50 प्रतिशत का ही निवेश करे |

2) अपनी आय का अच्छा खासा भाग आप PPF में लगा सकते है यह सरकार के द्वारा अधिकतम रिटर्न की व्यवस्था के साथ कई अन्य सुविधाए होती है | इसमें आप निवेश रिटायरमेंट के हिसाब से प्रति वर्ष कर सकते है | अगर आपकी कन्या है तो सुकन्या योजना का लाभ जरूर ले | PPF और सुकन्या में लगभग बराबर निवेश करे | विवाह की जिम्मेदारी और रिटायरमेंट की स्थति सँभालने में बहुत मदद मिलेगी |


3) आप चाहे तो अपनी आय का तीसरा भाग सोने( गोल्ड) की खरीददारी या जमीन /घर में कर सकते है | अगर आप लम्बी अवधि के लिए निवेश करते है तो ये भी एक अच्छा निवेश होगा |
संतुलित बचत और निवेश (saving and investment) Idea
संतुलित बचत और निवेश (saving and investment) Idea


 अगर आपको इसमे कोई बात जननी है तो कमेंट करके पूछ सकते है |

Post a comment

0 Comments