इंसानियत - Motivational Poem

माना की दुनिया में लाख धोखे है,
पर इसी दुनिया में ही सहारे है!
इस दुनिया में हजारो तरह के लोग है,
सबका व्यवहार और स्वभाव अलग है!
गोरे- काले, मोटे- पतले, रूप -रंग अलग है,
पर अस्तित्व तो उनका है जो दुसरो के लिए जीता है!
खा - पी कर सोना तो जानवर भी जानते है,
पर दुसरो की मदद करना इंसानो को ही आता है!
अपने जीवन का एक उद्देश्य बनाओ,
इंसानियत - Motivational Poem
इंसानियत - Motivational Poem
मानवता का एक प्यारा सा घर सजाओ!
ये शरीर एक मिट्टी का घर है,
एक दिन मिट्टी में ही मिल जाना है!
लाखो लोग रोज मिट्टी में मिल जाते है,
पर याद कितने किये जाते है!
क्यों न आज कुछ ऐसा किया जाये,
याद हम बरसो तक किये जाए! 

Post a comment

0 Comments