प्रेरणा एक शक्ति है || Motivation Is A Power- Always Worked

प्रत्येक व्यक्ति के अंदर असीम क्षमता व सामर्थ्य का भंडार छिपा हुआ है, अवतार एंड पर वह अवश्य ही प्रकट होता है| इसके लिए प्रेरणा कि शक्ति महत्वपूर्ण होती है | यदि हम अपनी योग्यता , क्षमता और शिक्षा के शंकर को त्यागकर अपने आपको अत्यंत लघु रूप में समझे तो हमारे लिए प्रेरणा का मार्ग सदैव खिला रहेगा | हमारा अहंकार प्रगति के मार्ग कि सबसे बड़ी बाधा है | यह सत्य है कि व्यक्ति जीवन भर कुछ न कुछ सीखता है फिर भी सम्पूर्ण नहीं हो पाता |सीखने के लिए उम्र कम पद जाती है|


         प्रेरणा एक शक्ति है जो हमारी क्षमता का मूल्यांकन करती है| प्रेरणा से प्रभावित होकर हम बहुत से असंभव कार्य भी संभव कर डालते है| जिससे हमारा कार्य व्यक्तिगत सम्मान पाने योग्य होता है| प्रेरणा हमारे अंदर छुपे सामर्थ्य को बाहर निकलती है| हमारे अंदर छुपे असीम ऊर्जा को को प्रेरणा ही प्रकट करती है , प्रत्येक व्यक्ति प्रेरणा से कुछ न कुछ प्राप्त करता है | इसके लिए किसी उम्र या योग्यता की आवश्यकता नहीं होती है , केवल कुछ सीखने की भावना प्रबल होनी चाहिए |हम अपने आचरण से ऐसे आदर्श उपस्थित करे जिससे लोगो को प्रेरणा मिल सके| प्रत्येक व्यक्ति में कोई न कोई गुण अवश्य होता है| वह गुण दूसरे के लिए प्रेरक का कार्य करता है|
    प्रेरणा हमारे जीवन में पग-पग हमें संकेत देती रहती है लेकिन हम उन्हें नजर अंदाज करते रहते है जिससे हम अपने लक्ष्य को पाने में असफल हो जाये है और डिश अन्यमान कारणों को देते है | प्रेरणा का सम्बन्ध अन्तरात्मा से होता है , अगर हम अपना अहंकार त्याग कर अपने अन्तरस की खिड़की खुली रखें तो निश्चय ही प्रेरणा हमारी प्रगति का मार्ग प्रशस्त करेगी | महापुरुषों का गौरवशाली अतीत तो हमारे लिए सदैव प्रेरणा रहा है , यदि हम इस दृष्टि कोण से उसे आत्मसात करेंगे की उनके जीवन की गतिविधियों को उत्कृष्टता का मापदण्ड मानकर हम अपने आचरण में उतरेंगे तो उससे हम अपना तो भलाई करेंगे ही साथ ही साथ ही निश्चित रूप से समाज का भलाई करने में समर्थ होंगे और दुसरो के लिए अनुकरणीय साबित होंगे | यह प्रेरणा की शक्ति का ही प्रतिफल होगा | यदि हम अपनी आत्मिक ऊर्जा की विवेक के माध्यम से इस्तमाल करेंगे तो हम स्वयं दुसरो के लिए प्रेरणा का श्रोत होंगे , हमे स्वयं अपने अंदर छुपी शक्ति को पहचानना होगा की हमारे अंदर अजस्र ऊर्जा का श्रोत सदैव विधमान रहता है | अंततः हमें यह मानना ही होगा की प्रेरणा एक शक्ति है , जिसे आत्मसात करके हम अपने जीवन के प्रेरक क्षेत्र में सफलता प्राप्त कर सकते है |

Post a comment

0 Comments