महान कौन - दानवीर कर्ण या अर्जुन || A Story of Greatness

महान कौन - दानवीर कर्ण या अर्जुन

Who is great-

महाभारत के युद्ध में कर्ण और अर्जुन आमने सामने थे|कर्ण के सारथी शल्य एवं अर्जुन के सारथी कृष्ण थे|

महान कौन - दानवीर कर्ण या अर्जुन, who is great a motivation mahabharat story
महान कौन - दानवीर कर्ण या अर्जुन

  जब अर्जुन के बाण चलते , तो कर्ण का रथ कई कदम पीछे हो जाता | और कर्ण के बाण चलते तो अर्जुन का रथ कुछ कदम पीछे हट पता |यह देखकर कृष्ण के मुख से निकला "शाबाश कर्ण ! तुम महान हो |" यह बात अर्जुन को अच्छी नहीं लगी और वो नाराज हो उठे | इस पर अर्जुन को श्री कृष्ण ने समझाया - "स्वयं बजरंगबली तुम्हारे रथ पर ध्वज फहरा रहे है , नागराज ने तुम्हारे रथ के पहियों को रोका हुआ है , और मैं स्वयं तीनो लोकों का स्वामी तुम्हारे रथ पर विराजमान हूँ | इस पर कर्ण बे तुम्हारे रथ को कुछ कदम पीछे हटाया है | निश्चय ही वो प्रशंसा का पात्र है |"

       इस कहानी के बाद , यदि हम महाभारत के कुछ अन्य उदाहण देखें तो अर्जुन से श्रेष्ठ दानवीर कर्ण हर क्षेत्र में दिखाई देते है लेकिन अर्जुन सच्चाई के साथ थे और दानवीर कर्ण बुराई का साथ दे रहे थे साथ ही साथ उनकी पराजय का एक कारण ये भी था कि अर्जुन के साथ उनके गुरु द्रोणाचार्य का आशीर्वाद था |और कर्ण के साथ उनके गुरु परशुराम का आशीर्वाद न हजार श्राप था कि इस विद्या को तू उस समय भूल जायेगा , जब तुझे इसकी आवश्यकता होगी |


Post a comment

0 Comments