बाल विकास में एक माँ की महत्वपूर्ण भूमिकाएँ ||The role of the mother

 

माँ की भूमिका बच्चे के संपूर्ण विकास और कल्याण को बहुत प्रभावित करती है || -The role of the mother greatly affects the overall development and welfare of the child.





एक माँ बच्चे के विकास को बहुत प्रभावित कर करती है |  जब बच्चे के विकास की बात आती है तो माँ की भूमिका को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है | माँ बच्चे के भविष्य को सवारने के लिए अपनी पूरी ज़िन्दगी लगा देती है |

 बच्चे के आने पर माता-पिता का जीवन बदल जाता है। एक माँ को अपने बच्चे की प्रत्येक ज़रूरत की देखभाल करनी होती है और उससे जुड़ी हर बात का ध्यान रखना होता है। यद्यपि सभी माताओं को अपने कर्तव्यों के बारे में ज्ञान होता है यदि वे अपनी भूमिकाओं और जिम्मेदारियों को अच्छी तरह से समझते हैं तो उन्हें निभाने में आसानी होगी |
माँ बनने से पूरे जीवन और जीवनशैली में भी बदलाव आता है गर्भवती होने के समय से ही आपको विभिन्न प्रकार की चुनौतियों से गुजरना पड़ता है | 

माताओं की महत्वपूर्ण भूमिकाएँ और जिम्मेदारियाँ -


1. बच्चे के साथ सबसे मजबूत भावनात्मक रिश्ता 


 एक माँ अपने बच्चे को समझने और पहचानने वाली पहली महिला होती है। जन्म के बाद भी माँ अपने बच्चों की पहली देखभाल करने वाली होती है। जिस तरह से वे शुरुआती महीनों और वर्षों के दौरान बच्चे के साथ बातचीत या व्यवहार करती है , वह बच्चे पर गहरा प्रभाव छोड़ता है|माँ द्वारा दिए गए संस्कार बाद में बच्चे की सामाजिक और भावनात्मक प्रणाली पर छाप छोड़ता है |


2. सही विकास के लिए उचित वातावरण देना


माताओं की जिम्मेदारी होती है की वो अपने बच्चों को ऐसा वातावरण दे जो बच्चों के भविष्य के लिए लाभदायक हो |बच्चों के लिए विशेष प्रकार के खेल, रचनात्मक कार्य की सुविधा से भरा हुआ माहौल देना चाहिए | 


3. बाल व्यवहार विकास

 

एक माँ अपने बच्चे को सबसे ज्यादा जानती है | इसलिए, बच्चे के व्यवहार विकास का बारीकी से निरीक्षण किया जाता है।  बच्चे को देखने और उसकी आवाज सुनने से माँ को आभास होता है कि उसके अंदर क्या चल रहा है | बाहरी लोगों के साथ कैसा व्यवहार करना चाहिए, क्या बोलना चाहिए ये सब माँ द्वारा दिए गए ज्ञान का एक हिस्सा माना जाता है |


4. भरोसेमंद और सुरक्षा


 

माताएं बच्चों को सिखा सकती हैं कि उन्हें कैसे भरोसेमंद और दूसरों पर भरोसा करना चाहिए।  एक बार जब बच्चा यह समझ जाता है कि उसे किस पर भरोसा करना चाहिए और किस पर नहीं , तो वह आत्मविश्वास और भावनात्मक रूप से सुरक्षित हो जाता है  | अपने बच्चों के आसपास रहें जब उन्हें आपकी आवश्यकता हो तो उन्हें बेहतर बनने में मदद करें।  आपका बिना शर्त प्यार और समर्थन उन्हें खुद को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है |


5. पारिवारिक संबंध


 एक माँ अपने बच्चे को परिवार के महत्व के बारे में जानकारी देने में मदद करती है क्योंकि माँ परिवार की रीड की हड्डी होती है और सभी को एक साथ रखती है |  एक साथ पारिवारिक बैठक करें और अपने बच्चे को परिवार के सदस्यों के साथ समय बिताने के लिए प्रोत्साहित करें |


6. दयालु, प्यार और देखभाल बने 


 यदि आप दैनिक गतिविधियों में अपने बच्चे के प्रति दयालु, प्यार करने वाले और उनकी देखभाल करने वाले बनतीं हैं, तो वह आपसे सीखकर खुद को आपकी तरह बनाने की कोशिश करेगा |आपके बच्चे के प्रति आपके व्यवहार का उस बच्चे पर न केवल उसके विकास पर स्थायी प्रभाव पड़ता है, बल्कि उसके बड़े होने के बाद भी वह प्रभाव बरकरार रहता है |


7. विचारशील और संवेदनशील बनें


 जब आप अपने बच्चे के सोचने के तरीके को ठीक से समझेंगे और जवाब देंगे, तो आपका बच्चा एक संवेदनशील व्यक्ति बन जाएगा।  वह दूसरे व्यक्ति के दृष्टिकोण को भी समझने में सक्षम होगी।  यह रिश्तों को बनाए रखने में बहुत मददगार होगा।


8. सकारात्मक दृष्टिकोण


एक माँ चीजों को सकारात्मक तरीके से संभालती है, और यह बच्चे को भी सिखाती है कि जीवन चाहे कितना भी कठिन क्यों न हो, उसे बेहतर तरीके से संभाला जा सकता है |आप अपने बच्चों के साथ समस्याओं पर चर्चा करे और उन्हें बता सकते हैं कि आप इससे कैसे निपटेंगे | किसी भी समस्या के कितने हल होंगे और अगर आप होगे तो क्या करेगे इससे बच्चे की सोचने की क्षमता का भी विकास होगा |


9. जीवन में दिनचर्या और अनुशासन की भूमिका


 चूंकि मां शुरुआती दिनों में बच्चे के लिए एक कार्यप्रणाली का पालन करती है | और एक दिनचर्या को निर्धारित करती है , और यह संदेश देती है कि दिनचर्या का पालन करके चीजों को आसानी से और आराम से प्रबंधित किया जा सकता है।


 

10. कड़ी मेहनत

 

एक बच्चा अपनी माँ से कड़ी मेहनत करना सीखता है।  दूसरी ओर आपका बच्चा ये भी देखता है कि दिन के अंत में आप थक जाते हैं लेकिन जब आप उसे उस मेहनत से मिले फल का ज़िक्र करते है साथ उससे होने वाली खुशी और संतुष्टि को समझाते हैं, तो बच्चा कड़ी मेहनत के लिए स्वयं को तैयार करता  है और बच्चे तक सही संदेश पहुंचता है|


         एक माँ जीवन भर अपने बच्चे को सुधारने में सहायता करती है और मदद करती है।  माँ की भूमिका बच्चे के संपूर्ण विकास और कल्याण को बहुत प्रभावित करती है।


Related Post


  1. Why Does Raksha Bandhan Celebrate in India - भारत में रक्षा बंधन क्यों मनाया जाता है 
  2. प्रारम्भिक भारतीय इतिहास पर निबंध

  3. आर्य कौन थे

  4. Essay on Pollution In Hindi || प्रदूषण पर निबंध

  5. Shri Krishna Janmashtami Essay in Hindi- कृष्ण जन्माष्टमी
  6. भारत में स्वतंत्रता दिवस क्यों मनाया जाता है- Indipendence Day Celebration in India
  7. How To Celebrate Eid-Ul_Fitar Essay in India - ईद-उल-फितर पर निबंध
  8. होली का जिद्दी रंग छुडाने के आसान तरीके होगा चुटकियो मे रंग साफ
  9. Teachers Day Essay || Why Teacher Day Celebrated on 5 September Every Year

Post a comment

0 Comments