लू केसे लगती है लू लगने के कारण लक्षण और उपचार बताये

लू लगना

लू केसे लगती है लू लगने के करन लक्षण ओर उपचार बताये
लू केसे लगती है लू लगने के कारण लक्षण ओर उपचार बताये 


हमारे शरीर में बहुत अधिक मात्रा में आंतरिक गर्मी पैदा होती है, हमारा शरीर पसीना निकाल कर तथा त्वचा से उसमें छोड़कर अपने आप को ठंडा रखता है, ।

लेकिन अत्यधिक गर्मी आर्द्रता तेज धूप में काम करने या खेलने कूदने के कारण हमारे शरीर के शीतल प्रणाली निष्क्रिय होने लगती है । जिससे शरीर का तापमान खतरे की सीमा तक बढ़ जाता है ।

शरीर से पसीना नहीं निकलने से शरीर ठंडा नहीं हो पाता, और शरीर का तापमान बढ़ता रहता है, जिसके कारण लू लगने पर मरीज निर्जलीकरण का भी शिकार हो जाता है । 

घर से अधिक समय तक बाहर रहने वाले तथा धूप में काम करने वाले लोगों को लू लगने की आशंका अधिक होती है । बूढ़े तथा बच्चों खासतौर पर नवजात शिशुओं को गर्मी के दिनों में धूप से बचाए रखना चाहिए  ।


 लू लगने के लक्षण 


 लगातार और लंबे समय तक अधिक गर्मी और तेज धूप में रहने के कारण लगने वाली लू या ताप की अत्यंत गंभीर अवस्था है, इसमें शरीर से पसीना निकलता निकलना बंद हो जाता है ।

जिससे शरीर का तापमान नहीं कर पाता, सिर दर्द, चक्कर  थकावट, तेज बुखार, बेहोशी , दिल की धड़कन में तेजी और मतिभ्रम  आदि लू लगने के लक्षण हैं ।

 लू लगने पर मरीज की हालत बहुत तेजी से बिगड़ती और तत्काल समुचित उपचार नहीं होने पर मौत भी हो सकती है |


 लू लगने के उपचार



 लू लगने पर मरीज को घर के भीतर ठंडी जगह पर लगाना चाहिए, उसके शरीर से कपड़े उतार देनी चाहिए , और पूरे शरीर को ठंडे पानी से भिगोकर पंखे से हवा करनी चाहिए ।

ताकि शरीर से पसीना निकले जाऊंगा, और छाती के ऊपर बस रखनी चाहिए, मरीज को इस तरह लेटाना चाहिए, ताकि उसके पैर थोड़े उठे रहें । मरीज की स्थिति में सुधार नहीं होने पर उसे जल्द से जल्द अस्पताल पहुंचाना चाहिए, ।

अस्पताल में मरीज को इंजेक्शन के जरिए तरल दिए जा सकते हैं|  ताकि शरीर में होने वाली पानी एवं लवण की कमी की पूर्ति हो जाए अस्पताल से मरीज को छुट्टी मिलने पर घर में भरपूर विश्राम की जरूरत होती है, मरीज के शरीर का तापमान कुछ सप्ताह तक घटता बढ़ता रहता है ।


Read More


  1. बैंक खाते के मोबाइल नंबर बदलवाने के लिए पत्र || Bank Application
  2. पढाई के लिए बैंक से ऋण प्राप्ति के लिए आवेदन पत्र || letter for study loan
  3. आवेदन पत्र या प्रार्थना पत्र क्या होते हैं लिखते समय किन किन बातों का ख्याल रखना चाहिए ।
  4. Bank Related Letter Format- बैंक संबंधी पत्र
  5. Invitation Letters in Hindi-मनोरंजन संबंधी निमंत्रण पत्र
  6. लिखित परीक्षा और साक्षात्कार की सूचना देने के लिए पत्र 
  7. रिक्त पदों की भर्ती हेतु सूचना जारी करने के लिए संचार माध्यमों से पत्र व्यवहार – Correspondence Through Media to Release Information for the Recruitment of Vacant Posts
  8. परीक्षा में फेल होने पर सहानुभूति पत्र (Sympathy Letter) | सहानुभूति पत्र कैसे लिखे
  9. Essay on Democracy in India
  10. विषय परिवर्तन के लिए प्रधानाचार्य को पत्र || Application For Subject Change

Post a comment

0 Comments