मोटापे का कारण क्या है तथा मोटापा कितने तरह का होता है - What Causes Obesity and Types of obesity

मोटापे का कारण क्या है तथा मोटापा कितने तरह का होता है - What Causes Obesity and Types of obesity


What Causes Obesity and Types of obesity
What Causes Obesity and Types of obesity

मोटापा हमारे जीवन की सबसे बड़ी समस्या है। आजकल मोटापा ज्यादातर लोगों को होता है जिसके कारण वे कई बीमारियों के शिकार हो जाते हैं। मोटापे के कई कारण हैं। उदाहरण के लिए, तली-भुनी चीजें खाने से, अतिरिक्त वसा के सेवन से हमारे शरीर की चर्बी बढ़ती है और शरीर सूज जाता है। अधिक आराम करने या पारिवारिक मोटापे के कारण भी मोटापा हो सकता है।

 

मोटापा बढ़ने के कई कारण होते हैं जैसे कि अधिक मेहनत करना, अधिक व्यायाम करना, समय पर भोजन करना, मिठाई, तेल, दूध, घी, अंडे का वसा, शराब, मांस, धूम्रपान आदि मोटापा बढ़ाते हैं।

 

1. पारिवारिक मोटापा -

 

यदि परिवार के सभी लोग मोटे हैं, तो यह अधिक संभावना है कि पैदा होने वाली संतान भी मोटापे से ग्रस्त होगी, लेकिन इस बीमारी को नहीं कहा जाएगा। इसे पारिवारिक मोटापा कहा जाएगा जो माता-पिता से विरासत में मिला है।

 

2. महिला मोटापा -

 

महिलाओं का मोटापा अधिक भोजन खाने और भोजन के बाद आराम करने से होता है। अनावश्यक पदार्थों आदि के सेवन से महिलाओं में मोटापा अधिक तेजी से बढ़ता है, इसके अलावा, महिलाओं में हार्मोनल परिवर्तन अधिक तेज दर से होते हैं, क्योंकि वे उम्र में हैं। इससे महिलाओं में उम्र बढ़ने के साथ मोटापा तेजी से बढ़ता है।

 

3. बच्चों के मोटापे का कारण -

 

बच्चों में मोटापा बढ़ने का कारण वसा, प्रोटीन, अनावश्यक चीजों का सेवन आदि है, जो बच्चों के स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है।

 

मोटापा किस प्रकार का है?

 

शरीर के तीन प्रकार के मोटापा हैं - फ्रेलिच, ग्लैंडर ओबेसिटी, कुशिंग सिंड्रोम।

 

1. फ्रोलीच -

 

पेट का मोटापा पेट, वक्ष और नितंब आदि को प्रभावित करता है और इस मोटापे से इंसान का विकास बाधित होता है। सिर में ट्यूमर के कारण फ्रॉलीच मोटापा होता है।

 

2. ग्लैंडुर ओवेसीटी -

 

ग्लैंडुर ओवेसिटी बचपन का मोटापा है। ऐसा बहुत कम देखने को मिलता है।

 

3. कुशिंग सिंड्रोम -

 

ग्रंथि सिंड्रोम यह मुख्य रूप से अधिवृक्क ग्रंथि की सूजन और उनमें अधिवृक्क ग्रंथि से हार्मोन की रिहाई के कारण होता है।



Post a comment

0 Comments