बच्चे के भविष्य में माँ की भूमिका पर निबंध || Eassy On Role Of Mother In Child's Future.

बच्चे के भविष्य में माँ की भूमिका पर निबंध || Eassy On Role Of Mother In Child's Future.





एक माँ का प्यार बिना शर्त और अंतहीन होता है, एक ऐसा प्यार जो कभी नहीं मरता है |  यह प्रेम का सबसे शुद्ध और समर्पित रूप है जिसे कभी कोई अनुभव नहीं करता है |

    माँ पहली शिक्षक होती है क्योंकि माँ को लाड़ प्यार और पोषण करने के अलावा वह अपने बच्चों को नैतिक और सांस्कृतिक मूल्यों की शिक्षा भी देती है।  एक माँ अपने बच्चे की देखभाल करने के साथ-साथ घर और बाहर के हर काम को कर सकती है।  एक प्रसिद्ध कहावत है कि केवल एक महिला और वह भी, विशेष रूप से एक माँ, एक घर को एक रहने योग्य घर में बदलती है | एक बच्चे के जीवन में माँ का बहुत बड़ा योगदान रहता है | माँ अपने बच्चे के भविष्य के लिए अपना सारा जीवन समर्पित कर देती है | एक माँ की बच्चे का भविष्य को बनाने में बहुत बड़ी भूमिका होती है |

          भले ही हम वयस्क हों या शादीशुदा हो गए हो परन्तु माँ सदैव हमें एक छोटे बच्चे के रूप में ही देखती है वो हमारी जरूरतों का वैसे ही ध्यान रखती है जैसे बचपन में रखती थी| हमारी माताएँ अक्सर हमारे पालन-पोषण के लिए अपने हितों और शौक के लिए बलिदान करती हैं |  माँ एक ऐसा व्यक्तित्व है जो हमारे व्यक्तित्व का निर्माण करने के लिए अपने सभी प्रकार के ज्ञान को अर्जित करके हमें और हमारे जीवन को यथासंभव आसान बनाने की कोशिश करती है |

एक माँ का महत्व-


 माँ अत्यधिक जिम्मेदार व्यक्तित्व वाली महिला होती है | एक माँ अपने बच्चे का जीवन सुविधाजनक बनाने के लिए हर वो प्रयास करती है जो उसके लिए संभव हो | वे निश्चित रूप से एक बच्चे की परवरिश में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है |  सबसे महत्वपूर्ण ये है कि माताएं बच्चे के दृष्टिकोण को निर्धारित करने में एक बड़ी भूमिका निभाती हैं। भविष्य में बच्चा अच्छा होगा या बुरा, यह माता पर निर्भर करता है।  माँ द्वारा सिखाए गए नैतिक मूल्य शायद एक बड़ी भूमिका निभाते हैं।  वृद्धावस्था तक व्यक्ति अक्सर अपनी माँ के मूल्यों को याद रखते हैं।  इसलिए, समाज की भलाई में माँ का एक बड़ा योगदान होता है | बड़े पैमाने पर समाज का भविष्य एक माँ के शिक्षण का परिणाम है |

ये भी जाने -








Post a comment

0 Comments