लिंग की परिभाषा और प्रकार ||Definition and type of gender In Hindi

लिंग की परिभाषा और प्रकार -




लिंग क्या है? 


वो शब्द जो संज्ञा या सर्वनाम के व्यक्तिवाचक जाति को दर्शाते है , लिंग कहलाते है | तात्पर्य ये है की जिस संज्ञा या सर्वनाम शब्द से व्यक्ति की जाति का पता चलता है लिंग कहलाते है |
            जाति के आधार पर ही आप उसकी व्याख्या सही शब्दों के साथ कर सकते है जैसे अगर आपको पता होगा की राधा स्त्रीलिंग है तभी आप कह पाएंगे की राधा जा रही है | इसी वजह से संज्ञा का लिंग निर्धारण होना आवश्यक है | 

लिंग के प्रकार -


 1)  पुल्लिंग
 2)  स्त्रीलिंग

1) पुल्लिंग-

वो शब्द जो संज्ञा या सर्वनाम के पुरुष होने का बोध कराये , पुल्लिंग कहलाते है |इन शब्दों से ये पता चलता है की वाक्य का निर्माण कैसे करना है | 

उदाहरण - बन्दर , विष्णु , औजार आदि |

पुल्लिंग के शब्दों की पहचान -


1) पेड़ों को पुल्लिंग से सम्बोधित करते है | जैसे - नीम शीशम , बरगद , पीपल आदि |

2) सारी धातुओं को भी पुल्लिंग कहा गया है जैसे - लोहा , पीतल , सोना आदि |

3) जितने भी तरल पदार्थ है उन्हें पुल्लिंग कहा गया है | जैसे - पानी , पेट्रोल डीजल आदि |

4) प्राणीवाचक शब्द हमेशा पुल्लिंग होते है जैसे मनुष्य , पंक्षी , बन्दर , जानवर आदि |

5) समय के नाम पुल्लिंग ही होते है जैसे घंटा , मिनट , सेकण्ड , पल आदि |

6) महीनो तथा दिनों के नाम को भी पुल्लिंग रूप से पहचाना जाता है | जैसे - जनवरी , फरवरी , सोमवार , मंगलवार आदि |

7) देश के नमो को भी पुल्लिंग माना गया है | जैसे - भारत , आस्टेलिया , इंग्लैण्ड आदि |

8) पर्वतो के नाम को भी पुल्लिंग से सम्बोधित करते है | जैसे - हिमालय , कैलाश , एवेरेस्ट आदि |

9) जितने भी अनाज है उन्हें भी पुल्लिंग ही माना गया है | जैसे - गेहूँ , ज्वार , बाजरा आदि |

            पुल्लिंग से जुड़े शब्दों की पहचान करने के लिए उनके पीछे लगे अ त्व आ आव पा पन न आदि |जैसे - घोड़ा , पोता , लड़का आदि |

2) स्त्रीलिंग-

वो शब्द जो संज्ञा या सर्वनाम के स्त्री होने का बोध कराये , स्त्री लिंग कहलाते है |इन शब्दों से ये पता चलता है की वाक्य का निर्माण कैसे करना है | 

उदाहरण - रानी , हिरणी , शेरनी , लड़की 

स्त्रीलिंग के शब्दों की पहचान -


1) भोजन को स्त्रीलिंग से दर्शाया गया है जैसे रोटी , सब्जी आदि |

2) पुस्तक , किताबे स्त्रीलिंग से सम्बोधित किया जाता है | जैसे - रामायण , महाभारत , गीतांजली आदि |

3) समूहवाचक शब्दों को प्रायः स्त्रीलिंग से सम्बोधित किया जाता है जैसे - भीड़ , पार्टी , सेना , कक्षा आदि |

4) नदी नहरों के नाम सदैव स्त्रीलिंग होते है जैसे - नर्मदा , गंगा , कावेरी आदि |

5) भाषाएँ और बोलियाँ सदैव स्त्रीलिंग से प्रदर्शित होती है |जैसे हिंदी , अंग्रेजी , अरबी , संस्कृत आदि |

6) वस्त्रो के नाम भी स्त्रीलिंग ही होते है जैसे सलवार , टाई , शर्ट आदि |

7) आभूषण भी स्त्रीलिंग से प्रदर्शित होते है जैसे - हार , बाली , अंगूठी , चूड़ी आदि |

8) मसालों के नाम भी स्त्रीलिंग से सम्बोधित होते है |जैसे - सौफ , इलाइची , धनिया , मिर्ची आदि |

           ऐसे और भी शब्द है जो स्त्रीलिंग कहलाते है | इन शब्दों को पहचानने के लिए आप ध्यान दे की शब्द के अंत में ई , ऊ , अ , आ , नी , इनी आदि में से इस्तमाल होता है , जैसे की कुर्सी , दवाई , उबासी , दारू आदि |परन्तु कोई जरुरी नहीं है की अंत में ई या ऊ के इस्तमाल वाले शब्द ही स्त्रीलिंग होते है कुछ शब्द ऐसे भी होते है जिनके अंत में ये अक्षर नहीं होते हुए भी वो स्त्रीलिंग होते है ये धीरे धीरे अभ्यास से ज्ञात हो जाते है |

स्त्रीलिंग प्रत्यय -


पुल्लिंग शब्द को स्त्रीलिंग बनाने के लिए कुछ वर्ण को शब्द में जोड़ा जाता है जो स्त्रीलिंग प्रत्यय कहलाते है | जैसे - ई , ऊ , अ , आ , नी , इनी आदि |

आइये अब हम स्त्रीलिंग प्रत्यय का इस्तमाल करके पुल्लिंग को स्त्रीलिंग में परिवर्तित करते है |

नर - नारी 
राजा - रानी 
देवर - देवरानी 
देव - देवी 
शेर - शेरनी 
पापा - मम्मी 
कबूतर - कबूतरी 
घोडा - घोड़ी 
चूहा - चुहिया 


















Post a comment

0 Comments