बहन को योग करने के लिए प्रेरित करने के लिए पत्र || Letter to motivate sister to do yoga

बहन को योग करने के लिए प्रेरित करने के लिए पत्र 



                                            ममता सागर 
                                            आवास विहार 
                                             पोरबंदर 
प्रिय बहन , 
सदैव खुश रहो  |

मैं यहाँ कुचल पूर्वक हूँ और आशा रखता हूँ की आप सभी भी कुशल होंगे | आज मुझे माता जी का पत्र मिला जिससे घर के समाचार पता चला और साथ ही ये भी पता चला की आपकी तबियत नाजुक रहती है | आपके शरीर के अलग अलग हिस्सों में दर्द होता है | आप अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखिये |
       स्वास्थ्य अच्छा रहता है तो जीवन सिख पूर्वक व्यतीत होता है |इसलिए आप योगासन किया करे भागदौड़ भरी ज़िन्दगी में व्यस्तता के कारण हम अपने स्वास्थ्य की तरफ ध्यान ही नहीं दे पा रहे है | योग के माध्यम से हम अपने स्वास्थ्य का ध्यान रख सकते है | अगर योग नियमित रूप से किया जाये तो शरीर में होने वाले दर्द से निजात पाई जा सकती है | मैंने हाल ही में योग करना शुरू किया है और मुझे इससे बहुत ही आराम है मैं योग की वजह से तरोताज़ा महसूस करता हूँ , और ये शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है | आपके लिए योगासन एक अच्छा उपचार सिद्ध होगा |
          आशा करता हूँ आप मेरी सलाह को मानेगी और योगासन को अपने जीवन में स्थान देंगी | मुझे पूर्ण विश्वास है की आप जल्द से जल्द स्वास्थ्य हो जाएगी | माता - पिता को सादर प्रणाम |
                                       आपका प्यारा भाई 
                                       आकाश गुप्ता 

ये भी जाने -











Post a comment

0 Comments