चक्रवात क्या है और कैसे बनता है || What Is A Cyclone And How Is It Formed


चक्रवात किसे कहते है ?


एक विशेष स्थति , जब वायु के कम दबाब वाले केंद्र के चारो ओर गर्म हवाएं तेजी से घूमती है तो इस प्रक्रिया को चक्रवात कहते है |दक्षिणी गोलार्द्ध पर ये गर्म हवाएं चक्रवात के नाम से जानी जाती है ये गर्म हवाएं यहाँ घड़ी की सुइयों की दिशा में घूमती है | वही उत्तरी गोलार्द्ध पर यही गर्म हवाएं हरिकेन और टाइफून के नाम से जानते है बस इनका घुमाव घड़ी की सुइयों के विपरीत दिशा में होता है |

उष्णकटिबंधीय चक्रवात वे होते हैं जिनसे अधिकांश लोग परिचित हैं क्योंकि ये चक्रवात हैं जो उष्णकटिबंधीय महासागर क्षेत्रों में होते हैं। तूफान और टाइफून वास्तव में उष्णकटिबंधीय चक्रवात के प्रकार हैं, लेकिन उनके अलग-अलग नाम हैं ताकि यह स्पष्ट हो कि जहां तूफान आ रहा है। तूफान अटलांटिक और पूर्वोत्तर प्रशांत में पाए जाते हैं, टाइफून उत्तर पश्चिमी प्रशांत में पाए जाते हैं।

चक्रवात के प्रकार - 


 चक्रवात के उत्पत्ति के आधार पर चक्रवात को दो भागो में विभाजित किया गया है -
 
1) वलकियक चक्रवात (ट्रॉपिकल साइक्लोन )

2) बाह्योष्णकटिबंधीय चक्रवात या उष्णवलयपार चक्रवात 

1) वलकियक चक्रवात (ट्रॉपिकल साइक्लोन ) -


ये एक तरह के तूफ़ान होते है जो उष्ण कटिबंध (Tropical) पर तीव्र तथा अन्य स्थानों पर साधारण होते है। इसमें तीव्र बारिश होती है तथा साथ ही 20-30 मील प्रति घंटा की रफ़्तार से चलते है।  हवा का वेग 20 से लेकर 30 मील प्रति घंटा होता है।  इसमें वायु का घुमाव 90 से लेकर 130 मील प्रति घंटा होता है।

2) बाह्योष्णकटिबंधीय चक्रवात या उष्णवलयपार चक्रवात (Extratropical cyclone या Temperate cyclones) -


इस चक्रवात में वर्षा के साथ साथ बर्फ भी गिरती है | इसमें हवा का वेग 20 से लेकर 30 मील प्रति घंटा होता है | बाह्योष्णकटिबंधीय चक्रवात  ज्यादातर सर्दियों, और वसंत में होते हैं।  वे आम तौर पर बारिश के तूफान और बादल के मौसम से जुड़े होते हैं | गर्मियों के दौरान, समशीतोष्ण चक्रवातों के सभी रास्ते उत्तर की ओर खिसकते हैं और उप-उष्ण कटिबंध और गर्म समशीतोष्ण क्षेत्र पर कुछ ही समशीतोष्ण चक्रवात होते हैं |

कैसे बनता है चक्रवात -


गर्म इलाके के समुद्र में मौसम की गर्मी से हवा गर्म होती है जिसके कारण वहाँ अत्यंत कम वायु दाब का क्षेत्र बनता है | हवा गर्म होकर तेजी से ऊपर आती है और ऊपर की नमी से मिलकर संघनन (Compaction) से बादल बनाती है. इस वजह से बने खाली जगह को भरने के लिए नम हवा तेजी से नीचे जाकर ऊपर आती है | जब हवा बहुत तेजी से उस क्षेत्र के चारों तरफ घूमती है तो घने बादलों और बिजली के साथ मूसलाधार बारिश करती है | तेज घूमती इन हवा के क्षेत्र का व्यास हजारों किलो मीटर हो सकता है।


चक्रवात के दौरान क्या होता है?


उष्णकटिबंधीय चक्रवातों के मुख्य प्रभावों में भारी बारिश, तेज हवा, भूमि के पास बड़े तूफान और तूफान शामिल हैं। एक उष्णकटिबंधीय चक्रवात से विनाश, जैसे कि तूफान या उष्णकटिबंधीय तूफान, मुख्य रूप से इसकी तीव्रता, इसके आकार और इसके स्थान पर निर्भर करता है।


चक्रवात के क्षेत्रीय नाम



1. टाइफून - चीन सागर

2. उष्णकटिबंधीय चक्रवात- हिंद महासागर

3. तूफान-कैरेबियन सागर

4. बवंडर-यूएसए

5. विली विलिस- उत्तरी ऑस्ट्रेलिया

6. बगुइओ- फिलीपींस

7. तैफू- जापान








Post a comment

0 Comments